Breakup Shayari | ब्रेकअप शायरी

Breakup Shayari In Hindi – इस आर्टिकल में ब्रेकअप शायरी के बारे में दिया गया है| जब आप इस पोस्ट को पढ़ेंगे तो आपको बहुत ही अच्छा लगेगा| आप इन शायरी को अपने दोस्तों को या प्रेमी को फेसबुक और व्हाट्सएप्प पैर शेयर कर सकतें हैं|

इस पोस्ट में ब्रेकअप शायरी (Breakup Shayari), ब्रेकअप शायरी हिंदी में (Breakup Shayari in Hindi), ब्रेकअप स्टेटस, (Breakup Status In Hindi), गर्लफ्रेंड ब्रेकअप शायरी (breakup shayari for girlfriend), बॉयफ्रेंड ब्रेकअप शायरी (breakup shayari for Boyfriend) etc.

Breakup Shayari | ब्रेकअप शायरी

 

उपर वाला भी अपना आशिक है,
इसिलिये तो किसिका होने नहीं देता|


बहुत भीड़ है मोहब्बत के इस शहर में,
एक बार जो बिछड़ा वापस नहीं मिलता|


कितनी आसानी से कह दिया तुमने,
की बस अब तुम मुझे भूल जाओ,
साफ साफ लफ्जो मे कह दिया होता,
की बहुत जी लिये अब तुम मर जाओ|


कभी जो कह्ते थे हमे की मेरी ज़िन्दगी हो तुम,
आज वो हमे कह्ते है की एक बेवफा हो तुम,
कभी जिस के लिए ज़िन्दगी जीने की वजह थे हम,
आज वो कह्ते है की एक सजा हो तुम|


बेवफा तो वो खुद थी पर इलज़ाम किसी और को देती थी,
पहले नाम था मेरा उसके होटों पर अब वो नाम किसी और का लेती है,
कभी लेती थी वादा मुझसे साथ न छोड़ने का,
अब यही वादा किसी और से लेती है|


मेरी बर्बादी पर तो कोई मलाल न करना,
भूल जाना मेरा ख्याल न करना,
हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे,
पर तुम मेरी लाश से कोई सवाल मत करना|


यूँ तो हर दिल में एक कशिश होती है,
हर कशिश में एक ख़्वाहिश होती है,
मुमकिन नहीं सभी के लिए ताज महल बनाना,
लेकिन हर दिन में एक मुमताज़ होती है|


तेरे ख्यालों से धड़कन को छुपा के देखा है,
दिल और नजर को बहुत रुला के देखा है,
तेरी कसम तो नहीं तो कुछ नहीं,
क्योंकि मैंने कुछ पल तुझे भुला के देखा है|


बिखरी किताबें भीगे पलक और ये तन्हाई,
कहूँ कैसे कि मिला मोहब्बत में कुछ भी नहीं|


वो जिसकी याद मे हमने खर्च दी जिन्दगी अपनी,
वो शख्श आज मुझको गरीब कह के चला गया|


निकाल दिया उसने हमें अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज़ की तरह,
ना लिखने के काबिल छोड़ा, ना जलने के|


किस दर्द को लिखते हो इतना डूबकर,
एक नया दर्द दे दिया है उसने ये पूछकर|


जरूरी नहीं की हर बात पर तुम मेरा कहा मानों,
दहलीज पर रख दी है चाहत, आगे तुम जानो|


काश कि वो लौट आये मुझसे ये कहने,
कि तुम कौन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले|


नहीं करेंगे आज के बाद कभी मन्नते तुम्हारी,
खुदा जब राज़ी होगा तब तुम तो क्या हर चीज़ मेरी होगी|


अगर तुम्हें पा लेते तो किस्सा इसी जन्म में खत्म हो जाता,
तुम्हे खोया है तो, यकीनन कहानी लम्बी चलेगी|


तेरी बेरुखी ने छीन ली है शरारतें मेरी,
और लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूँ|


जिस जिस ने मोहब्बत में, अपने महबूब को खुदा कर दिया,
खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए, उनको जुदा कर दिया|


फिर किसी मोड़ पर मिल जाऊँ तो मुहँ फेर लेना तुम,
पुराना इश्क़ हूँ, फिर उभरा तो कयामत होगी|


तोड़ दिया इन कंपनी वालो ने ख़्वाब तुझे पाने का,
कहते है तेरा नंबर भी मेरी पहुंच से बाहर है|


तकलीफ ये नही के किस्मत ने मुझे धोखा दिया,
मेरा यकीन तुम पर था किस्मत पर नहीं|


खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे,
जिस दिन जिंदगी में हमारी कमी पाओगे|


वो कतरा-कतरा मुझे तबाह करते गये,
हम रेशा-रेशा उनपे निसार होते गए|


देखती रहती हूँ हाथों की लकीरों को दिन रात,
यार का दीदार कहीं लिखा हो शायद|


बडा जालिम है साहब, दिलबर मेरा,
उसे याद रहता है, मुझे याद न करना|


जिंदगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ,
मगर, किसी के भरोसे का फ़ायदा नहीं|


सोच रही हूँ कुछ ऐसा लिखू की वो,
पढ़ के रोये भी ना और रातभर सोये भी ना|


तुम्हें ही सहना पडेगा गम जुदाई का,
मेरा क्या है मैं तो मर जाऊँगी|


जब सपना टूटता है तो सिर्फ सपना ही नहीं टूटता,
उसके साथ उम्मीद भी टूट जाती है|


तुझे खोने के डर से शायद हम मर जायँगे,
तुम याद करोगे फिर मुझे लेकिन हम वापस नही आएंगे|


तेरी नियत नहीं थी साथ चलने की,
वरना साथ निभाने वाले रास्ता देखा नहीं करते|


वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह,
फिर हल्का सा मुस्कराया, और कहा, मोहब्बत की थी ना|


हमसे बिछड़कर अब वो खुश रहने लगे है,
अफ़सोस की हमने उनकी ये ख़ुशी छीन रखी थी|


इतना दर्द तो खुदा ने भी नहीं लिखा होगा,
मेरी क़िस्मत में, जितना दर्द तूने मुझे प्यार कर के दिया है|


तेरे सिवा कौन ‎समा सकता है ‎मेरे दिल में,
रूह भी गिरवी रख दी है मैंने ‎तेरी चाहत में|


भूली बिसरी सभी यादें जला जाऊंगा,
थोड़ा दर्द थम जाने दो, मैं चला जाऊंगा|


मुझको छोड़ने की वजह तो बता देते,
मुझसे नाराज थे या मुझ जैसे हजारों थे|


सिर्फ़ दो ही गवाह थे मेरी वफ़ा के,
एक वक्त जो गुज़र गया और एक वो जो मुकर गया|


दो कश मोहब्बत के क्या लिये,
जिंदगी ही धुँआ धुँआ हो गई|


दिल से बड़ी कोई क़ब्र नहीं है,
रोज़ कोई ना कोई एहसास दफ़न होता है|


बड़ी अजीब है ये मोहब्बत,
वरना अभी उम्र ही क्या थी शायरी करने की|


हमे मालूम था अपनी दिल्लगी का नतीजा,
तभी मोहब्बत से पहले शायरी सीखी है हमने|


ना रोक कलम मुझे दर्द लिखने दे,
आज तो दर्द रोयेगा या फिर दर्द देने वाला|


ज़्यादा कुछ नहीं बदला उसके और मेरे बीच,
पहले नफरत नहीं थी और अब प्यार नहीं है|


लगाई तो थी आग उसकी तस्वीर में रात को,
सुबह देखा तो मेरा दिल छालों से भरा पड़ा था|


बड़ी तब्दीलिया लाया हूँ अपने आप मे लेकिन,
बस तुमको याद करने की वो आदत अब भी है|


वो मेरा वहम था कि मैँने उसे, अपना हमसफर समझा,
वो चलता तो मेरे साथ था पर किसी और की तलाश में|


मोहब्बत की शतरंज में वो बड़ा चालाक निकला,
दिल को मोहरा बना कर हमारी जिन्दगी छीन ली|


वजह तुम्ही कहो मुझसे आँखे चुराने की,
एक सजा और दे दो तुमसे दिल लगाने की|


चन्द सिक्के बनाने में मैंने कीमती दौलत गवा दी,
क्यों मैंने कल की खातिर आज की खुशियां मिटा दी|


जितने हक़ से उसने मुझे भूल जाने को कहा,
उतने हक़ से तो हमने उसे मोहब्बत भी नही की|


इतनी भी उदासी किस काम की,
थोड़ा इश्क़ करलो वरना जिंदगी किस काम की|


बहुत आसाँ है इश्क़ में हार के खुदखुशी कर लेना,
कितना मुश्किल है जीना, ये हमसे पूछ लेना|


मुझे समझने का दौर कभी क्यूँ नही होता,
मुझसा मजबूर कभी तू क्यूँ नहीं होता,
क्या फ़र्क़ है तेरी वफ़ा और मेरी वफ़ा में,
मुझे बेहिसाब हो तुझे दर्द क्यूँ नहीं होता|


किसी की खातिर तू मुझसे जुदा होगा,
कल तेरा भी यही अंजाम ऐ वफ़ा होगा|


चुप चाप सहती खामोशियो की क्या खता थी,
मंजिल पे पहुच कर दूर जाने की क्या वजह थी,
भूल से दुखाया होता दिल मेरा तो भी जी लेते,
जान बूझ कर दिल दुखाने की क्या वजह थी|


जिंदगी तू रूठ जा मैं मनाने नही वाला,
तुझे पता भी है क्या क्या खोया है मैंने|


अब जो हो गया सो जाने दो,
तुम रूठ गए मुझे मानाने दो,
भूल जाओ जो तुमसे ना हो सका,
मैंने जो भी किया मुझे भूल जाने दो|


अब तुम ही कहो तुम से क्या गिला करू,
सोचता हूँ जस्बातो को दूर रख के मिला करू|


तुमने आने का वादा क्या किया,
हम पहली दफा चैन से सो गए|


उम्मीद न रखना कभी किसी से, सच्चे प्यार की,
बहुत प्यार से धोखा देते हैं, शिद्दत से चाहने वाले|


टूटता हुआ तारा सबकी दुआ पूरी करता है,
क्यों कि उसे टूटने का दर्द मालूम होता है|


Please follow and like us:

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *